Spread the love

धौलपुर गोरूकुटी में फिर से बुलडोजर एक्शन

2021 में भी धौलपुर गोरूकुटी में 1418 लोगों के घर में बुलडोजर चली थी और इस दौरान एक लोग की मौत भी हो चुकी थी ।

इसी दौरान फिर से कुछ लोग गुरु खुती कृषि प्रकल्प के नदी के किनारे में ही अपना घर बनाकर रह रहे थे और इस दौरान फिर सोमवार से बुलडोजर एक्शन लगातार जारी स्थानीय लोग बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है ।इनमें से 379 परिवारों को जिला प्रशासन ने बेदखल कर दिया

देखा जाए तो सलाम टीवी ने गुवाहटी हाई कोर्ट के सीनियर एडवोकेट तथा खुदाई खिदमतगार के सदर एडवोकेट इलियास अहमद से बातचीत की बातचीत के दौरान उन्होंने साफ तौर से कहा कि पूर्व गोरुखुती में बुलडोजर एक्शन यह सरासर नाइंसाफी है और इस तरह से बुलडोजर एक्शन नहीं चलना चाहिए सिर्फ एक समुदाय के खिलाफ बुलडोजर एक्शन असम सरकार की तरफ से जारी हो रही है ।

यह सरासर गलत है वही असम प्रदेश इततेहाद फ्रंट के असम प्रदेश अध्यक्ष नुरुल इस्लाम ने भी अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि गरुखूटी में बुलडोजर एक्शन सरासर गलत फैसला है क्योंकि 2021 में भी यहां पर बुलडोजर चलने के तहत 1 लोगों की मौत हो चुकी है हम लोग इसे करी भाषा से निंदा करते हैं।

दरांग जिले के ढलपुर 3, गरुखुटी में एक और बुलडोजर एक्शन शुरू किया गया

जिला प्रशासन द्वारा 379 परिवारों को बेदखल कर दिया गया

सितंबर 2021 में प्रशासन ने पहली बार धलपुर में 1,418 परिवारों को बेदखल किया

बेदखल किए गए परिवारों को दारंग जिले के दलगांव निर्वाचन क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया गया

इनमें से लगभग 620 परिवार ढलपुर नदी के किनारे शरण लिए हुए थे

620 परिवारों ने प्रशासन द्वारा निर्धारित स्थानों पर जाने से इनकार कर दिया

प्रशासन के बार-बार निर्देश के बावजूद परिवारों ने गरुखुटी कृषि परियोजना की जमीन नहीं छोड़ी


Spread the love

By Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *